जानिए हमारे देश का पैसा कैसे और कहां बनता है ?

Hello दोस्तों स्वागत करते आपका आज के हमारे आज के इस articale हमारे देश का पैसा कैसे और कहां बनता है ? में Title देखकर आप समझ की आज हम किस बारे में बात करने वाले हैं। तो चलिए आपका ज्यादा समय न लेते हुए सीधा Topic पर आते हैं।


अगर देश में  unlimited पैसा हो जाए तो क्या होगा।

दोस्तों हमारे मन में ये सवाल उठता है की जब दुनिया भर की सरकारों के पास नोट छापने की मशीन है तो ये नोट छाप सबको अमीर क्यों नहीं बना देती सोचिये अगर सारे लोगो के पास unlimited पैसा हो जाए तो क्या होगा सबके सब अम्बानी बन जायगे और क्या होगा। फिर न कोई अमीर रहेगा ना कोई गरीब सबके सब अमीर बन जाएगे। लेकिन 1 min दोस्तों जरा रुकिए अपने मन पर जरा break लगाए। अगर unlimited पैसा छप गया तो सब तरफ हाहाकार मच जायगा।  क्यों इसका जवाब तो Article पूरा पड़ने के बाद ही मिल पाएगा।

किसी भी देश की उत्पादन करने की छमता कितने गुड्स हैं  और कितनी services provide कर सकती है उस देश की जनता।
services का मतलब doctor consultation से लेकर auto manufacturer तक जितने भी।
गुड्स का मतलब दलहन तिलहन से लेकर गोल्ड  जितने भी।

जितनी एक देश के पास  गुड्स  और services होती हैं उतनी ही उस देश की currency यानि मुद्रा होनी चाहिए

ये है final formula किसी देश में उत्पनन होने वाली गुड्स और services  की कीमत = देश की मौजूदा currency यानि मुद्रा

नहीं समझ  आया तो चलिए  example देकर समझाते हैं।
मान लिजिये किसी देश में 5 लोग रहते हैं  सबके पास 100 100 रुपए हैं और  उस देश 50 किलो चावल पैदा होता है। तो उस 50 किलो चावल की total कीमत कितनी होगी 100*5 =500
अब मान लीजिये उस देश के pass नोट छापने  मशीन है और उन्होंने खूब सारे नोट छापे और लोगो में बाँट दिए
अब अगर सब लोगो 1000 रुपे हैं तो उस 50 किलो चावल की total कीमत क्या हुई 1000*5=5000
क्या आपने गौर किया अब उन्ही 50 किलो चावल की कीमत 500 से 5000 हो गई।

मतलब तो आप अब समझ ही  गए होंगे अगर नहीं समझे तो चलिए और विस्तार से जानते हैं
सरकार जितना ज्यादा नोट छापेगी उतनी ही ज्यादा मॅहगाई बढ़ेगी
और इसी को हम mudra sfiti भी कहते हैं यानि की  devaluation of currency हो जायगी।

चलिए आपको हम इसे दूसरे तरिके से भी समझाते हैं
मान लीजिए  सरकार ने बहुत सारे पैसे छापे और सबके पास लाखो करोड़ो आ गए तो जब हम market में एक साबुन खरीदने जायगे  कीमत 50 रुपे होगी दूकानदार भला आपको कम पैसो में क्यों देगा आपके पास  पैसा है। अरे भाई दूकानदार की भी लालच बड़ेगी धीरे धीरे सबकी कीमत आसमान छूने लगेगी हर चीज़ के दाम आसमान छूने लगेगी।

दोस्तों अब तक आप समझ गए होंगे की जितना भी ज्यादा पैसा छापेगे उतना ही महगाई का सामना करना पड़ेगा।

पैसे का पेपर कहा तैयार होता है?

पैसे का पेपर ज्यादातर दुनिया के चार देशो में होता है इन देशो में पेपर बनाने की आधुनिक मशीने है. तो चलिए जानते है वो कौन से देश है 1. अमेरिका का पोर्टल 2. फ्रांस का अर्जो विगिज 3. स्वीडन 4. लुसेंत्ल पेपर फेबरिक।

हमारे देश में पैसा छापने की मशीने कहा है?

पैसा बनाने की मशीने MP के 1. देवास 2. मैसूर 3. सालबोनी 4. नासिक में है. देवास में नोट कि स्याही और 10 50 500 के नोट छापे जाते है। मैसूर में 2000 के नोट छपते है आपको बता दे कि देवास में एक साल में 265 करोड़ नोट छपते है. इसके आलावा हमारे देश में एक पेपर मिल, चार बैंक नोट प्रेस और चार टकसाल मील है. टकसाल मील देश के चार शेहरों में जिनमे मुंबई, हैदराबाद, कोलकाता, नॉएडा शामिल है।

नोट छपाई के पेपर होसंगाबाद और विदेशो से इम्पोर्ट किये जाते है। इंडियन नोट में तीन जगह का पेपर यूज़ होता है 1. महाराष्ट्र कि करेंसी नोट Press (CNP) 2. ज्यादातर पेपर MP के होसंगाबाद मील से आता है 3. कुछ पेपर को विदेश से इम्पोर्ट किया जाता है। नोट बनाने में ख़ास कॉटन से बने पेपर और ख़ास स्याही का इस्तेमाल होता है. ये स्याही देवास के बैंक नोट प्रेस और सिक्किम में स्विस फ़र्म यूनिट में बनती है।

पैसे कैसे छपते है?

विदेश और होसंगाबाद से आये पेपर को Saymnton मशीन में डाला जाता है। इसके बाद इसे दूसरी मशीन Intabu मशीन में डाला जाता है। मशीन से निकले नोटों कि सीट पर अच्छे और ख़राब नोटों को अलग अलग कर दिया जाता है। इसके बाद सही नोटों पर number डाला जाता है। नंबर डालने के बाद एक एक नोट को चेक किया जाता है।

खराब नोटों का क्या करते है?

जब नोट ख़राब हो जाते है तो उन्हें बैंक में जमा कर दिया जाता है। बैंक उन नोटों को मुख्य कार्यालय में भेज देता है वहां उनकी जांच होती है और उनकी जगह नए नोटों को छाप दिया जाता है।

पैसे हम तक कैसे पहुचते है?

इंडियन रिज़र्व बैंक के देश में 18 ऑफिस है 1. अहमदाबाद 2. बंगलुरु 3. बेलापुर 4. चेन्नई 5. चंडीगढ़ 6. भोपाल 7. जयपुर 8. हैदराबाद 9. गुहाटी 10. कोलकाता 11. कानपूर 12. जम्मू 13. मुबई 14. नागपुर 15. पटना 16. थिरुवनंतपुरम 17. भुबनेश्वर 18. लखनऊ l सबसे पहले नोट इन ऑफिस में पहुचते है. इसके बाद अलग अलग बैंक में भेज दिया जाता है।

ABFTECHWORLD.IN 

दोस्तों अगर आपको हमारा ये आर्टिकल पसन्द आया हो तो अपने दोस्तों और चाहने वालो तक जरूर SHERE कीजिये 

हमारे UC NEWS पेज को जरूर फॉलो कीजिये - 

Was this helpful?

Post a Comment

0 Comments